IMG_3730.JPG


जय जय श्री महागणेश
हर साल की तरह इस साल भी निमकर परिवार ने बड़े हर्ष और उल्लास के साथ गणेश चतुर्थी मनाई | पिछले पच्चीस सालोँ से उनके घर में गणेश चतुर्थी पर "गणपति बापा मौर्या" का जय-जयकार सुनाइ देता है | श्रीमती भावना निमकर, श्रीमान सतीश निमकर, और उनका सपुत्र नील निमकर चतुर्थी के दिन ब्राह्म मुहूर्त में उठकर उनके गणपति दादा को विधि पूर्वक पंचामृत से स्नान करातें हैं और साथ में गणेशजी की अनेक स्तुतियाँ गातें हैं | फिर वे उन्हें वस्त्र पहनातें हैं और गणेशजी का शृंगार करतें हैं| फिर श्री गणेश को अपने हाथों से सजाये हुए मंडप में स्थापित करतें हैं | हर साल वे गणेशजी के लिए अलग-अलग आसन और मंडप बानतें हैं, कभी मयूरासन, तो कभी हंसासन, कभी क्षीर सागर में शेषनाग पर बिठाया, तो कभी वृन्दावन के यमुना तट पर रास मंडल में बिठाया| परन्तु इस साल उन्होंने चन्द्र लोक में गणेशजी को स्थापित किया था|
इस महोत्सव के लिए निमकर परिवार में २-३ महीने पहले तैयारी शुरू हो जाती हैं| कृष्ण जन्माष्टमी से वे २१ प्रकार की मिठइयां घर पर बनाना शुरू करतें हैं | पांच दिन वे गणेशजी को दिन में ३ बार विविध प्रकार के मिष्टान , २ बार चाय और नाश्ता, और दोपहर और शाम को गरम-गरम भोजन धरतें (भोग लगाते) हैं | निमकर परिवार गणेशजी की तो खातिर दारी तो बड़े शान से करते ही है परन्तु साथ-ही-साथ गणेशजी के भक्तों का भी अच्छे से ध्यान रखतें हैं | रोज़ सुबह ३:३० बजे उठकर तीनों गणेश भक्तों के लिए महाप्रसाद अपने हाथो से बनातें हैं | हर रात आरती और महाप्रसाद लेने २००-३०० भक्तजन आतें हैं| जब भावनाजी से हमने पूछा कि आप अकेले ही इतने सारे लोगों का भोजन कैसे बनाती हैं? तब उन्होंने कहा, "यहाँ तो स्वयं माता पार्वती प्रसाद बनाने आती है, हम केवल अपने हाथ हिलातें हैं, शक्ति तो मातारानी की ही है|" भावनाजी का भाव देख कर हम भाव विभोर हो गए, उन्हें पूरा विशवास है कि गणेशजी के लिए उनकी माता पार्वती रोज़ आती है और इस महायज्ञ को पूर्ण करती है |
जब सुबह-सुबह भावनाजी ३५-४० कप की रोटियाँ बेलती है तब उनका पुत्र नील उन रोटियों को चार तवे पर सेकता है | दूसरे रसोई घर में सतिशजी सब्जियां काटते है और महाप्रसाद की दाल और सब्जी की तैयारी करते है| दिन दरमियान दूर-दूर से दर्शनार्थी उनके गणेशजी के सुन्दर रूप की झांकी करने आते हैं| शाम को भक्त जन ७:०० बजे आतें हैं और गणेशजी को अपने भजन कीर्तन से रिझाते हैं| फिर ८:०० बजे वे मराठी में गणेशजी की और सारे देवी देवताओं की आरती गातें हैं | एक भक्त ने बताया कि, "आरती के समय ऐसा भासित होता था कि गणेश महाराज वहा साक्षात बैठे हो और सब पर अपनी कृपा दृष्टी की वर्षा कर रहे हो, और पांच दिन के लिए ऐसा लगता है कि हम स्वर्ग में है|" भक्तजन के एसे उत्तर से हम इतना बता सकते है कि उन पांच दिन में सारे भक्त अवश्य परमानंद की अनुभूति करते हैं | सब भक्तों के मुख पर एक ही वाकय था कि पूर्णाहुति के दिन पर बहुत ही आनंद आया था | विसर्जन के दिन भक्तजन गणेश जी को पूरे घर में नाचते गाते विहार कराते हैं और फूलों की वर्षा से उन्हें विदा करते हैं| परन्तु ख़ास बात यह है कि सालों से निमकर परिवार एक ही मूर्ति की स्थापना करतें हैं, फिर प्रेम भाव से वह उस प्रतिमा को स्नान कराते हैं और फिर से अपने मंदिर में स्थापित करतें हैं | ऐसे देश में भी निमकर परिवार और सैंकडों भक्तों के भाव, प्रेम, और श्रद्धा देखकर मन बहुत आनंदित हुआ | अपने देश की संस्कृति को इतनी अच्छी तरह से संभाल कर रखना और अपने आने वाले पीढ़ी को भी इस तरह के संस्कार देना एक बहुत ही प्रशंसनीय बात है | इस उत्सव को अमेरिका जैसे देश में शायद ही कोई इतने प्रेम से मनाता होगा|

गणपति बापा मौर्या
प्रस्तुति- नील निमकर
Rutgers University