.jpg






जन्माष्टमी




जन जन्माष्टमी एक हिन्दु त्यौहार है। यह भगवान कृष्ण के जन्मदिन पर मनाया जाता है। कृष्ण विष्णु जी के एक अवतार हैं। कृष्ण जन्माष्टमीको और कई दुसरे नामों से जाना जाता है, जैसे की, "कृष्णाष्टमी", "सातम आठम", "गोकुलाष्टमी", और "अष्टमी रोहिणी"। कृष्ण जन्माष्टमी हर बार हिंदु सावन महिने की कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि पर आती है। यह त्यौहार ज्यादातर अगस्त - सितम्बर के महिनों में आता है, और इस बार जन्माष्टमी २ सितम्बर, २०१० को मनाई गई थी।
हिन् हिंदु कैलेंडर के सावन के महिने में, कृष्ण पक्ष के आठवें दिन, रोहिणी नक्षत्र में श्री कृष्ण का जन्म हुआ था। भगवान कृष्ण लगभग ५२२७ साल पहले, मथुरा में पैदा हुए थे। किंवदंती है कि श्री कृष्ण का जन्म, सावन की तूफानी रात को हुआ था। आधी रात को जेल में भगवान् बाल-कृष्ण का जन्म हुआ था, जहां उनके मामा कंस ने उनके माता-पिता को बंदी बनाकर एक कारागृह में रखा था। उनको उसी रात एक टोकरी में रखकर पिता वासुदेव ने उन्हें नंद और यशोदा के घर पहुंचाया था|

IMG_2327.JPG रात को बारह बजे कृष्ण जन्म होता है तब भक्तजन शंखनाद करते हैं, भजन गाते हैं और आरती करते हैं। मूर्ति को पहले पंचामृत से स्नान करवाया जाता है। उसके बाद बाल-कृष्ण को नए कपडे और नए आभूषणों से सुशोभित किया जाता है। बाद में पंचामृत भक्तजनों को प्रसाद के रूप में, मिठाईओं के साथ दिया जाता है।
भार भारत के विभिन्न प्रातों में जन्माष्टमी अलग-अलग तरीकों से मनायी जाती है। कर्णाटक में अवल्लाकी कृष्ण और सुदामा की दोस्ती की में याद बनायी जाती है। मथुरा में इस पर्व को विशेष रुप से मनाया जाता है। मथुरा और वृंदावन में रास लीला या कृष्णके जीवन की नाटकीय रचनाएं मंचस्थ की जाती हैं।
महाराष्ट्र में इस त्यौहार की एक अपनी ही पहचान है। यहां पर यह त्यौहार दहीं-हांडी या तो गोविंदा के नाम से प्रचलित है। एक हांडी में दही भरकर उसे उंची रस्सी पर लटकाया जाता है। फिर एक मानव पिरामिड बनाकर एक व्यक्ति उसे लकडी से तोडता है।

इस तरह जन्माष्टमी भारत के हर प्रांत में अलग-अलग रूप से मनायी जाती है।
Dahihandi-3.jpg
Photo by Alok Brambhatt
प्रस्तुति- नीता याज्ञिक


कृष्ण भजन - ललित किशोरी






जन्