पहेला बयशाख
पोहेला बोयशाख बंगाली का नया साल है, जो मनाया जाता है हर साल, १४ अप्रैल को ।
बंगाली में पोहेला का मतलब है "पेहला" और बोयशाख है बंगाली केलंेडर में पेहला महीना ।
इसलिए इस को कहा जाता है पोहेला बोयशाख या नोबोबोर्शो, मतलब नया साल ।


external image DANCING.jpg


हर सुबह १४ अप्रैल, लोग रमना पार्क में चले आते है ।
वहाँ एक बहुत बड़ा बरगद पेड़ है और वहाँ से सब उत्सव शुरु होता है ।
रमना पार्क एक विशेष जगा है अौर वहा बहुत लोग जाते है बयशाख को मनाने ।
वहाँ खाना, पीना, गाना, नाचना बहुत बड़े से करते हैं ।





बयशाख के दिन सब विशेष कपड़े पहनते हैं और बहुत अच्छे लगते हैं ।
लड़के कुर्ता पहनते हैं और लड़कियँा साड़ी पहनते हैं ।
इस दिन मंे अलग रंग भी है पहनने के लिए
कुर्ता हो सफ़ेद या लाल और पूरे साड़ी का रंग सफ़ेद, आँचल का रंग लाल ।


external image mwo-mw008805.jpg


मिठाय तो खाते है, पर हर साल सिर्फ़ एक दिन के लिए, हम एक विशेष खाना खाते हैं ।
इस खाने को हम कहते है: पान्ता भाथ आर इलिश माँच ।
यह है पनीला चावल और हिलसा मछली का एक मिस्रण है ।
सब कहते के यह खाना बहुत मज़ेदार है ।


external image Panta_Ilish.jpg


"नया साल मुबारक हो" !


external image 2446135_orig.jpg